आग अभी बाकी है

खुद को तपा सकता हूँ मैं
फिर से सोना बना सकता हूँ मैं

मुझको जलाने को आग अभी बाकी है।१।

गिर कर उठ सकता हूँ मैं
फिर नज़रों में चढ़ सकता हूँ मैं

कुछ नज़रों में मेरी साख अभी बाकी है।२।

खुद से लड़ सकता हूँ मैं
कब दुनिया से लड़ सकता हूँ मैं

धुली कमीज पर कुछ दाग अभी बाकी हैं।३।

अब भी हारा नहीं हूँ मैं
लाचार नहीं,बेचारा नहीं हूँ मैं

कुछ कर गुजरने का चाव अभी बाकी है।४।

अभी पढ़े हैं दो पृष्ठ तूने
अभी से न कर हिसाब अमित

अनपढ़ी पूरी क़िताब अभी बाकी है।५।

In response to: Reena’s Exploration Challenge #Week 51

13 thoughts on “आग अभी बाकी है

Add yours

  1. You increased the level of complexity, but ‘meri bhi kuchch saakh abhi baaki hai’ 🙂 I have placed a few hyphens, as a pause for effect.

    Purification by fire
    is my personal alchemy-
    latent heat inside me

    Rising after a fall
    in the eyes that matter-
    a few who look up to me

    Fighting my self-
    but not the world
    a few unwashed stains block me

    Not conceding defeat
    I’m neither helpless nor weak
    a few destinations-still beckon me

    Just scanned a few pages
    countdown not begun- yet
    the whole book- still challenges me

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: