शिकायत

हर एक सितम याद आता है तेरा
पर तुझसे कोई शिकायत तो नहीं

इश्क़ करो तो इश्क़ मिलेगा
अब ऐसी कोई रिवायत तो नहीं

तेरा न मिल पाना मुझको
फरिश्तों की सियासत तो नहीं

फिर से हँसके मिलना मुझसे
झूठी कोई इनायत तो नहीं

ले और ज़ख्म सीने पे अमित
उसमें कोई रियायत तो नहीं

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: