बहाना न दो

अब कोई आरज़ू न कोई ज़ुस्तज़ू
मुझे जीने का कोई बहाना न दो ।१।

कभी किसी ने भी न अपनाया मुझे
मत खाओ तरस आब-ओ-दाना न दो ।२।

नहीं होता सब का मुकद्दर बुलंद
मत करो मदद पर उलहाना न दो ।३।

नहीं करना हो जब सौदा मुकम्मल
वाज़िब यह है कि कोई बयाना न दो ।४।

हो जाने दो सपनो से आज़ाद अमित
अब फ़िर कोई बंधन पुराना न दो ।५।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: