फिर से मुझे

वो कौन है जो सपने में आया है आज
किसने दी है आज सदा फिर से मुझे ।१।

वो ज़ुल्फ़ झटकने का अंदाज़ उसका
याद आयी उसकी अदा फिर से मुझे ।२।

वस्ल-ए-यार से मिलता है इस दिल को सुकूँ
सोचता हूँ कब होगा फ़ायदा फिर से मुझे ।३।

छलका के मय को आँखों से साकी ने
समझा दिया पीने का कायदा फिर से मुझे ।४।

बहुत छला है उम्मीदों ने हमेशा अमित
मत याद दिला कोई वायदा फिर से मुझे ।५।

फ़ासला क्यों है

हम दोनों के दरमियान
क्या हुई वो चाहतें
अब यह फ़ासला क्यों है ।१।

बढ़ाऊँ भी मैं हाथ अगर
अब नहीं थामोगे तुम
टूटा हुआ हौंसला क्यों है ।२।

कायनात है क़दमों में मेरे
तो फिर दिल में यह
एहसास-ए-ख़ला क्यों है ।३।

गर इतना ही बुरा हूँ मैं
फिर सुनकर नाम मेरा
सांसों में ज़लज़ला क्यों है।४।

रोज़ आती है रात मगर
नींद नहीं आती अमित
ऐसा यह सिलसिला क्यों है ।५।

In response to: Reena’s Exploration Challenge #107

बाकी रहता मुझमें

अच्छा होता खुदको न खोया होता तुझमें
कुछ तो मुझसा शायद बाकी रहता मुझमें ।१।

दिल है तो फिर यह धड़कता क्यों नहीं है
क्यों यह नासूर सा रिसता रहता मुझमें ।२।

कब के जल के राख़ हो चुके हैं सपनें
क्या यह लावा सा बहता रहता मुझमें ।३।

मुद्दत हुई कि लब पर आयी नहीं हँसी
कौन यह शैतान सा हँसता रहता मुझमें ।४।

मुझसे कोई मुझको मिलवा दो अमित
न जाने कौन काफ़िर है अब रहता मुझमें ।५।

Blog at WordPress.com.

Up ↑