Only ifs and…

It was a crazy evening and
don’t think it was extraordinary and
I left her doorstep and
I started walking and
I thought she would follow me and
ask me to stop and
we would be together forever but
that never happened and
she neither followed and
she did not ask me to stop and
I kept on walking and
I have come too far and
I am left only with ifs and…

In response to: Reena’s Exploration Challenge # 194

अल्फाज़ मेरे

कहाँ से लाऊँ अशहार कि गज़ल बने
दफ़्न हैं अल्फाज़ मेरे ख्वाबों के साथ

ये इनायत तुम्हारी कुछ कम तो नहीं
कर दिया मशहूर मुझे ख़िताबों के साथ

उलझा दामन तो समझे राज़-ए-गुलशन
होते हैं काँटे भी अकसर गुलाबों के साथ

महकता है ख़ुश्बू से क़ुतुब खाना मेरा
रखे हैं कुछ ख़त तेरे किताबों के साथ

अच्छा होता तुम चुप ही रहते अमित
क्यों तोड़ा दिल मेरा जवाबों के साथ

In response to: Reena’s Exploration Challenge # 184

Start a Blog at WordPress.com.

Up ↑