दिल-ओ-दिमाग़

दिमाग़ कहता है बेवफ़ा हैं वो
नहीं मानता दिल उनका कुसूर
मुक़दमे में कौन जीतेगा दलील ।१।

वो रक़ीब से नज़दीकियां उनकी
सब कीं दिमाग़ ने दर्ज़ मगर
पूछे दिल क्या वे इतने अश्लील ।२।

हैं बहुत शातिर वे ,याद करे दिमाग़
उनकी सारी चालाकियाँ
माने दिल अब भी उनको नबील।३।

दिल कहे अमित मना ले उनको
पर रोक लेता है दिमाग
होना पड़ेगा फिर से ज़लील ।४।

In response to: Reena’s Exploration Challenge # 111

Blog at WordPress.com.

Up ↑